पार्षदों की समस्याएं सुन निगमायुक्त के सख्त आदेश: बोले- 15दिन तक काम शुरू न करने वाले ठेकेदार की प्रतिभूति राशि जब्त कर दूसरे से करवाएं

0
249
Quiz banner

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal
  • Smart City Karnal; Seize The Security Amount Of The Contractor Who Does Not Start The Work For 15 Days And Get It To Be Done By Another

करनाल11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
नगर निगम की बैठक में मौजूद अधिकारी। - Dainik Bhaskar

नगर निगम की बैठक में मौजूद अधिकारी।

Advertisement

करनाल नगर निगम में निगमायुक्त ने शनिवार को 3 पार्षदों और अधिकारियों के साथ बैठक ली। बैठक में तीनों पार्षदाें के वार्ड की समस्याओं को जाना और साथ में करने करने के सुझाव भी लिए। इसके साथ ही समस्याओं को दूर करने के आदेश दिए। निगमायुक्त नरेश नरवाल ने स्पष्ट किया कि जो ठेकेदार 15 दिन में काम शुरू नहीं करता उसको दो नोटिस देने के बाद प्रतिभूति राशि जब्त करें और दूसरे ठेकेदार से काम करवाएं।

समस्याओं के साथ दूर करने के दिए आदेश

वार्ड 18 के पार्षद हरीश कुमार बिट्टू की समस्याएं सुनी गई, जिनमें वार्ड की बहबूदी को लेकर कई तरह की मांगे भी शामिल थी। पार्षद ने बताया कि उनके वार्ड के गुरूनानक पूरा एरिया में एक इंटरमीडिएट पम्पिंग स्टेशन (आईपीएस) लगना चाहिए। इससे पानी निकासी की समस्या दूर होगी।

गंदा पानी आईपीएस के जरिए शिव कॉलोनी स्थित 8 एमएलडी के एसटीपी से जोड़ने का सुझाव दिया। इस पर निगमायुक्त ने बताया कि इस काम को अम्रुत-2 में लेंगे और इसे जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग के माध्यम से करवाएंगे। पार्षद की वाटर सप्लाई लाईन की दिक्कत को लेकर उन्होंने एक्सईएन व जेई को ठीक करवाने के निर्देश दिए।

साथ ही यह भी कहा कि समय पर पेमेंट के कारण की कमी से किसी ठेकेदार का काम नहीं रूकना चाहिए, लेकिन ठेकेदारों के नाम भी हिदायत दी कि जो ठेकेदार 15 दिन में काम शुरू नहीं करता, उसे एक-एक सप्ताह के अंतराल का नोटिस देकर उसकी 10 प्रतिशत की प्रतिभूति राशि जब्त कर ली जाए।

इसके पश्चात दूसरे ठेकेदार को काम दे दें। शहर में भटकते पशु, सुअर, आवारा कुत्ते व बंदरो की समस्या का स्थाई समाधान करने के लिए उन्होंने संयुक्त निगमायुक्त से कहा कि वन्य जीव और पशु पालन विभाग के अधिकारियों के साथ एक मीटिंग कर इस समस्या का समाधान करें।

नगर निगम की बैठक में मौजूद अधिकारी।

नगर निगम की बैठक में मौजूद अधिकारी।

आयुक्त ने पार्षद से तत्काल और लम्बी अवधि के कामों की लिस्ट भी मांगी और आश्वस्त किया कि सभी काम करवा देंगे। उन्होंने जलापूर्ति काम के ठेकेदारों के लिए भी चेतावनी दी, कहा गर्मी का सीजन है, जहां जलापूर्ति पर्याप्त नहीं होगी, वहां के ठेकेदार को पेनेल्टी लगाएं।

नगर पार्षदों को खुश करने के लिए उन्होंने कहा कि जिन एरिया में सीवर व स्ट्रीट लाईटों का काम संतोषजनक नहीं है, एमसी लिखकर दे दें, उसके बाद ही सम्बंधित ठेकेदार को पेमेंट होगी। यह भी कहा कि जितनी लाईटें खराब हैं, उतने प्रतिशत ही पेमेंट कटेगी। पार्कों को लेकर उन्होंने कहा कि यह जनता के सुकून के लिए हैं, इनकी मेन्टेनेन्स रहनी चाहिए। बागवानी शाखा के काम भी दिखाई देने चाहिएं।

अधिकारियों के साथ बनेगा ग्रुप, समस्याएं भेज सकेंगे

वार्ड-19 के पार्षद व वरिष्ठ उप महापौर राजेश अग्घी ने मीटिंग में काफी समय लिया। निगमायुक्त ने भी उनकी सारी बातें गौर से सुनी और कहा कि पार्षद, आयुक्त, इंजीनियरिंग व सेनीटेशन ब्रांच के अधिकारियों का एक ग्रुप बनाएंगे। सम्बंधित पार्षद इसमें अपनी शिकायत डालेंगे, इसके बाद सोल्यूशन सुनिश्चित किया जाएगा।

उन्होंने पार्षद की मांग पर जितनी भी पुरानी पानी व सीवर लाईने तथा मेनहोल हैं, उनको भी दुरूस्त करने की बात कही। पानी के सैम्पल चैक करवाने के भी निर्देश दिए। गलियों की मरम्मत को लेकर उन्होंने कहा कि प्रीमिक्स कारपेटिंग के लिए सड़क पर मैटिरियल तैयार नहीं किया जाए, प्लांट से ही आना चाहिए, इससे पोल्यूशन नहीं होगा।

पार्षद की 8 जगहों पर रेन वाटर हार्वेस्टर की मांग पर उन्होंने चीफ इंजीनियर को निर्देश दिए कि जगह देखकर बनवा दें। प्रेम नगर की मुख्य सड़क पर बने डिवाईडर को खूबसूरत बनाने की भी पार्षद ने मांग की, निगमायुक्त ने कहा कि करवा देंगे। उन्होंने जानकारी दी कि राम नगर स्थित पुराने नाले के चौड़ीकरण का काम जारी है।

नगर निगम की बैठक में मौजूद अधिकारी।

नगर निगम की बैठक में मौजूद अधिकारी।

अगले 6 महीने में पूरा हो जाएगा, इससे पानी बहाव की क्षमता बढ़ जाएगी, ओवरफ्लो होकर गलियों में नहीं जाएगा। उन्होंने इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारियों से कहा कि निगम की अपनी टैस्टिंग लैब है, इसमें आधुनिक मशीनो की संख्या बढ़ाएं, बाहर से कोई सैम्पल चैक न करवाया जाए। डीटीपी ब्रांच से सम्बंधित कुछ बिन्दू भी मीटिंग में जिक्र हुए।

निगमायुक्त ने कहा कि शहर के जितने भी आर्किटैक्ट हैं, उनकी मीटिंग बुलाकर नक्शा पास करवाने से सम्बंधित पोर्टल की अच्छे से जानकारी दी जाएगी। उन्होंने निर्देश दिए कि पिंगली डेयरी स्थल पर प्लॉटो में मिट्टी भरपाई के काम में तेजी लाई जाए। जो शोचालय साफ-सुथरे नहीं दिखाई दें, उन्हेंमेन्टेन करने वाले ठेकेदारों से सख्ती करें।

मुख्य बाजारों में वाहनो को नियंत्रित करने के लिए सड़कों पर मार्किंग की जाए और जनता को जागरूक करें कि मार्किंग के अनुसार ही अपने वाहन पार्क करें। अच्छा तो यह है कि नगर निगम की ओर से कई जगह बनाई गई पार्किंग में ही अपने वाहन पार्क करें। मीटिंग में निगमायुक्त ने एक ओर खास बात कही कि शहर में जगह-जगह कूड़े-कचरे के लिए जो डम्पिंग पाँयट बनाए गए हैं।

उन्हें खत्म करना है। इसके लिए उन्होंने संयुक्त निगमायुक्त को आरएफपी बनाने के निर्देश दिए और कहा कि कूड़ा डम्प करने की बजाए सीधा प्लांट में जाए। शेखपुरा स्थित सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट पर लिगेसी वेस्ट को निपटाने के लिए लगी मशीनो की संख्या बढ़ाने के भी संकेत दिए।

अधूरे काम जल्द हों पूरे

वार्ड-20 के पार्षद मोनू ने अपनी समस्याएं मीटिंग में बताई। उन्होंने कहा कि उचाना में नगर निगम की ओर से सरकारी भूमि से काफी कब्जे हटवाएं हैं, अब उन जगहों पर बाड़ लगवाई जाए। इसी प्रकार गांव के रिवेन्यू रास्तों को इंटरलॉकिंग से पक्का करवाया जाए।

अनुसूचित जाति बस्तियों में बिजली, पानी व सड़कों जैसी सभी सुविधाएं दी जाएं। उचाना गांव का नजरिया नक्शा बनाया जाए। पार्षद ने स्ट्रीट लाईटों को दुरूस्त करवाने तथा वार्ड में लोगों के बैठने के लिए बैंच रखवाने की भी मांग रखी। जलापूर्ति को लेकर पार्षद ने कहा कि पानी की पर्याप्त सप्लाई वार्ड में मिल रही है।

डब्ल्यूजेसी के गांव के साथ लगते हिस्से में मजबूत फैंसिंग करवाई जाए, इससे छोटे बच्चों और पशुओं की सुरक्षा बढ़ेगी। उचाना गांव में निर्माणाधीन रेन वाटर हार्वेस्टिंग को जल्दी पूरा करवाने बारे पार्षद ने बात रखी।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here