वैक्सीन ट्रायल के प्रिंसिपल इंवेस्टिगेटर का दावा: भारत बायोटेक की नैजल वैक्सीन के दो फेज का ट्रायल सफल, संक्रमण की चैन भी टूटेगी

0
184
Quiz banner

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Faridabad
  • Two phase Trial Of Bharat Biotech’s Nasal Vaccine Successful, Chain Of Infection Will Also Be Broken, Claims Principal Investigator Of Vaccine Trial

फरीदाबाद4 घंटे पहलेलेखक: भोला पांडेय

  • कॉपी लिंक
प्रिंसिपल इंवेस्टिगेटर डॉ. पांडेय ने बताया कि अमूनन कोई भी वायरस किसी भी व्यक्ति के अंदर नाक के जरिए ही प्रवेश करता है। - Dainik Bhaskar

प्रिंसिपल इंवेस्टिगेटर डॉ. पांडेय ने बताया कि अमूनन कोई भी वायरस किसी भी व्यक्ति के अंदर नाक के जरिए ही प्रवेश करता है।

Advertisement

दिल्ली, गुड़गांव व फरीदाबाद समेत पूरे एनसीआर में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बीच राहत की खबर है। भारत बायोटेक द्वारा बनाई जा रही नैजल वैक्सीन का दो फेज का ट्रायल सफल रहा है। वैक्सीन ट्रायल के प्रिंसिपल इंवेस्टिगेटर एवं ईएसआईसी मेडिकल काॅलेज के डिप्टी डीन डॉ. एके पांडेय का दावा है कि नैजल वैक्सीन कोरोना वायरस को नाक में ही खत्म करने में पूरी तरह से कारगर सिद्ध हुई है।

खास बात यह है कि यह वैक्सीन संक्रमण की चैन को भी पूरी तरह से तोड़ देगी और एंटीबॉडी भी बनाएगी। तीसरे चरण का ट्रायल शुरू हो चुका है। उम्मीद है अगले दो-तीन महीने में वैक्सीन लोगों के लिए उपलब्ध हो जाएगी। डॉ. पांडेय का दावा है कि नैजल वैक्सीन भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए गेमचेंजर साबित होगी।

यह ट्रायल 18 से 99 आयुवर्ग में किया

दैनिक भास्कर से बातचीत में डॉ. एके पांडेय ने बताया कि नैजल वैक्सीन के ट्रायल में 18 से 99 आयुवर्ग के 500 लाेगों को शामिल किया गया। ट्रायल में उन लोगों को शामिल किया जो कोवैक्सीन अथवा कोविशील्ड समेत अन्य वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके हैं। उन्होंने बताया इस वैक्सीन का ट्रायल ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली समेत मुंबई, हैदराबाद, बैंगलुरू समेत नौ संस्थानों में किया गया। करीब 3000 लोगों पर इसका परीक्षण किया।

संक्रमण चेन शत-प्रतिशत तोड़ने में कारगर

प्रिंसिपल इंवेस्टिगेटर डॉ. पांडेय ने बताया कि अमूनन कोई भी वायरस किसी भी व्यक्ति के अंदर नाक के जरिए ही प्रवेश करता है। यह वैक्सीन नाक में ही कोराेना वायरस को खत्म कर देगी और शरीर में एंटीबॉडी भी डेवलप करेगी। अभी तक कि जितनी भी वैक्सीन आई हैं वे सिर्फ एंटीबॉडी बनाती हैं। संक्रमण की चेन को नहीं तोड़ पातीं। नैजल वैक्सीन की खासियत यह है कि यह संक्रमण चेन को शत-प्रतिशत तोड़ने में सफल है।

वैक्सीन लेने के 15 दिन बाद दिखाएगी असर

डॉ. पांडेय ने बताया कि नैजल वैक्सीन लेने के बाद यह 15 दिन में अपना असर दिखाना शुरू कर देगी। यानि दवा लेने के 15 दिन बाद वैक्सीन एक्शन मोड़ पर होगी। उनका दावा है कि अभी तक दुनिया में इतनी कारगर कोई दूसरी वैक्सीन का ट्रायल नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here